Skip to main content
Current location
20149
in | en
मेन्यू खोलने के लिए क्लिक करें
मेन्यू बंद करने के लिए क्लिक करें
मुख्य सामग्री शुरू करें

एफिनिटी® शाकनाशी

एफिनिटी® शाकनाशी गेहूं और चावल की फसलों में चौड़ी पत्तियों वाले खरपतवारों के लिए एक समाधान है, जो तेज़ी से काम करता है एवं जिसके उपयोग की दर कम है. घास वाले खरपतवार-नाशी दवा के साथ यह बेहतरीन तरीके से टैंक में मिल जाता है तथा खरपतवारों को बड़े पैमाने पर नियंत्रित करता है।

विशेषताएं

  • मालवा आदि जैसे प्रतिरोधी एवं मुश्किल से नियंत्रित होने वाले खरपतवारों को नियंत्रित करता है.
  • इसके परिणाम 48 से 72 घंटे के भीतर दिखने लगते हैं
  • गेहूं और धान की फसल में चौड़ी पत्तियों वाले खरपतवारों को नियंत्रित करता है
  • ग्रीन लेबल प्रोडक्ट- उपयोग के लिए आसान तथा सुरक्षित है. अगली फसल तथा पर्यावरण के लिए तुलनात्मक रूप से सुरक्षित है

सक्रिय अवयव/तत्व

  • कारफेंट्राजोन-इथाइल

लेबल व एसडीएस

4 लेबल उपलब्ध है

उत्पाद का विवरण

एफिनिटी® शाकनाशी, गेहूं और धान की फसल में उगने वाले खरपतवारों के लिए एक प्रभावी शाकनाशी है। इसकी अनोखी विशेषता के कारण, चौड़ी पत्ती वाले खरपतवार झुलस जाते हैं। घास वाले खरपतवार-नाशी दवा के साथ यह बेहतर तरीके से टैंक में मिल जाता है। इसे विशेष रूप से इन्हीं खरपतवारों के लिए उपयोग में लाया जाता है और धान में लुडविगिया पर्विफ्लोरा, डिगेरा अर्वेंसिस, फिलांथस निरूरी, स्पाइलांथस एसपी, एक्लिप्टा अल्बा व साइपरस एसपी, और गेहूं में चेनोपोडियम एल्बम, मेलिलोटस इंडिका, मेलिलोटस एल्बा, मेडिकागो डेंटिकुलेट, लैथयरस अफाका, एनालगलिस अर्वेंसिस, विकिया सतीवा, सर्शियम अर्वेंसिस, रुमेक्स एसपीपी और मालवा एसपीपी जैसे चौड़ी पत्ती वाले कई खरपतवारों को प्रभावी तरीके से खत्म करने का काम करता है। सर्वश्रेष्ठ परिणामों के लिए, जब अधिकांश खरपतवार उग आए हों और सक्रिय रूप से बढ़ने लगें, तब उपयोग करें।

फसलें

फसलों की आधिकारिक सूची, लक्षित कीटों, उपयोग के लिए निर्देश, प्रतिबंध और सावधानियों के लिए हमेशा उत्पाद का लेबल देखें. इच्छित परिणामों के लिए, दिए गए निर्देशों को ध्यान से पढ़ें और उनका पालन करें। 

इस उत्पाद के उपयोग पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं होता, इसलिए हम उत्पाद की समान गुणवत्ता को छोड़कर कोई आश्वासन नहीं देते हैं।

फसलों की पूरी सूची

  • गेहूं
  • सीधे बुआई वाला धान (डीएसआर)