मुख्य कंटेंट पर जाएं
वर्तमान स्थान
122002
in | en
मेन्यू खोलने के लिए क्लिक करें
मेन्यू बंद करने के लिए क्लिक करें
मुख्य सामग्री शुरू करें

एशिया में, विशेष रूप से भारत में, कृषि के क्षेत्र में महिलाएं प्रमुखता से अपना योगदान देती हैं, जो अन्य लोगों के लिए प्रेरणा का काम करता है. ग्रामीण भारत में, अपनी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर महिलाओं का प्रतिशत 84% तक है. लगभग 33% महिलाएं कृषक और लगभग 47% प्रतिशत कृषि मज़दूर हैं (देश में पशुधन, मत्स्य पालन और खाद्य उत्पादन के विभिन्न अन्य सहायक रूपों को छोड़कर). वर्ष 2009 में, फसलों की खेती के तहत अनाज उत्पादन में महिला कृषि श्रम बल का योगदान 94% था।

श्रम शक्ति में उनके प्रभुत्व के बावजूद, भारत में महिलाओं को अभी भी वेतन, भूमि अधिकार और स्थानीय किसान संगठनों में प्रतिनिधित्व के मामले में अत्यधिक नुकसान का सामना करना पड़ता है. इसके अलावा, उनके सशक्तीकरण की कमी से अक्सर नकारात्मक परिणाम, जैसे उनके बच्चों के लिए निम्न शिक्षा और खराब पारिवारिक स्वास्थ्य के रूप में सामने आते हैं।

इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए, एफएमसी भारत में कृषि क्षेत्र में महिलाओं की क्षमता बढ़ाने के लिए एक कार्यक्रम पर काम कर रहा है, ताकि महिलाएं अपने पैरों पर खड़ी हो सकें और राष्ट्र निर्माण में योगदान दे सकें।